» Blogs » प्रोस्टेट कैंसर: निदान और उपचार

प्रोस्टेट कैंसर: निदान और उपचार।

प्रोस्टेट कैंसर के निदान में कुछ परीक्षण शामिल हैं और एक बार इसका निदान हो जाने पर, रोग के चिकित्सा और इलाज के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं।

एक बार जब आप यूरोलॉजिस्ट या यूरो-ऑन्कोलॉजिस्ट के पास पहुंचते हैं, तो वे आपसे कुछ परीक्षण करवाने के लिए कह सकते हैं। प्रोस्टेट कैंसर के निदान के लिए उपयोग किये जाने वाले टेस्ट और प्रक्रिया में निम्न शामिल हैं|

  • अल्ट्रासाउंड KUB : यह एक सहज गुर्दे (किडनी ) का अल्ट्रासाउंड है जो किडनी, मूत्रवाहिनी और मूत्राशय की स्थिति को दर्शाता है। यह अल्ट्रासाउंड गुर्दे(किडनी) के आकार, गुर्दे के आतंरिक क्षति के संकेत,जन्म के समय से मौजूद असामानताएं,रुकावट(ब्लॉकेज) या गुर्दे की पथरी(किडनी स्टोन), मूत्र पथ के संक्रमण की शिकायत, पुटी (सिस्ट) या ट्यूमर और मूत्रवाहिनी (यूरेटर) असामान्यता, मूत्राशय की क्षमता, मूत्राशय की दीवार के अधिक मोटा होने, प्रोस्टेट के आकार आदि को दिखा सकता है।
  •  डी आर ई (DRE) (डिजिटल रेक्टल परीक्षण): डॉक्टर इसे एक आम शारीरिक परीक्षण के रूप में देखते हैं और जिसे वे प्रोस्टेट में किसी नोड्यूल, जो कि कैंसर भी हो सकता है, के होने की पुष्टि करने वाले पहले परीक्षण के रूप में परामर्श करते है।
  • पी एस ए (PSA) (प्रोस्टेट विशिष्ट एंटीजन) : यह पीएसए परीक्षण आदमी के खून में पीएसए के स्तर(0.1-4.0) को मापता है । यदि कोई व्यक्ति 5ARI दवा (Dutasteride) ले रहा है जो कि PSA के स्तर को कम करता है तो व्यावहारिक उद्देश्यों के लिए, प्रोस्टेट कैंसर के बारे में निर्णय लेने के लिए PSA स्तर को दोगुना किया जाना चाहिए। 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को हर साल स्क्रीनिंग के लिए जाना चाहिए। पीएसए स्तर में लगातार वृद्धि प्रोस्टेट कैंसर का संकेत हो सकती है।
  • एमआरआई (MRI): यह एक इमेजिंग परीक्षण है जो मल्टी पैरामीट्रिक है। प्रोस्टेट एमआरआई प्रोस्टेट के आकार को निर्धारित करने , PAIRADS स्कोर और कैंसर की पुष्टि करने के लिए किया जाता है।
  • बोन स्कैन: यदि पीएसए (PSA) और एमआरआई (MRI) की रिपोर्ट पॉजिटिव है और रोगी शारीरिक लक्षणों जैसे कि हड्डी और जोड़ों के दर्द आदि से ग्रस्त हो तो यह प्रक्रिया करनी होती है।
  • TRUS निर्देशित प्रोस्टेट बायोप्सी: पीटीएस, डीआरई और बोन स्कैन जैसे प्रारंभिक परीक्षणों के सकारात्मक परिणामों के बाद मूत्र रोग विशेषज्ञ एक प्रोस्टेट बायोप्सी का रिकमेन्डेशन दे सकते हैं। यह कैंसर की उपस्थिति और ग्रेडिंग की पुष्टि करने के लिए ग्रंथि से संदिग्ध ऊतक के नमूनों को हटाने की एक प्रक्रिया है।

अधिकांश रोगियों के प्रोस्टेट कैंसर का पता इसके अन्य अंगों या हड्डी में फैलने से पहले ही पता चल जाता है । प्रोस्टेट कैंसर कोशिकाएं धीरे-धीरे बढ़ती हैं और कभी-कभी इसमें तत्काल उपचार की आवश्यकता नहीं होती। लेकिन इन रोगियों को निगरानी में रखना पड़ता है और कैंसर की उपस्थिति का निर्धारण करने के लिए इन्हें पीएसए (PSA) परीक्षण, बायोप्सी और अन्य परीक्षाओं के लिए जाना चाहिए।

कैंसर हेल्पलाइन: +91-8429029838 or 8429029849

अब यदि आपको प्रोस्टेट कैंसर का पता चला है तो उपलब्ध उपचार निम्न हैं:

  • क्यूरेटिव - यदि व्यक्ति को स्टेज 1 या स्टेज 2 कैंसर का पता चलता  है, तो एक उपचारात्मक कदम फलदायी हो सकता है और रोगी को पूरी तरह से ठीक कर सकता है। कुछ प्रक्रियाओं में निम्न शामिल हैं:
  • रैडिकल प्रोस्टेटेक्टॉमी - रेडिकल प्रोस्टेटेक्टॉमी द्वारा कैंसर को हटाया जा सकता है जिसे तीन तरीकों से किया जा सकता है;
    • ओपन रैडिकल प्रोस्टेटेक्टॉमी,
    • लैप रेडिकल प्रोस्टेटेक्टॉमी या
    • रोबोटिक रेडिकल प्रोस्टेटक्टॉमी।
  •  रेडिएशन थैरेपी - ऐसे मामलों के लिए जो रेडिकल प्रोस्टेटेक्टमी के लिए अनफिट हैं। इस प्रक्रिया में रेडियोएक्टिव किरणों को कैंसर कोशिकाओं के लक्षित क्षेत्र में बाहर से पहुंचाया जाता है। कुछ प्रकार के विकिरण थेरेपी हैं जिनमें EBRT (एक्सटर्नल बीम रेडियो थेरेपी), IMRT (इंटेंसिटी मॉड्यूलेटेड रेडिएशन थेरेपी), स्टीरियोटैक्टिक रेडियोथेरेपी और ब्रैकीथेरेपी शामिल हैं। रेडिएशन थेरेपी सबसे सटीक और बहुत सही है। IMRT द्वारा कुछ सुरक्षा के साथ उच्च खुराक दी जा सकती है जिससे आसपास के अंगों को कोई नुकसान नहीं होगा।
  • प्रशामक(पैलिएटिव) - यह उपचार स्टेज 3 या स्टेज 4 कैंसर वाले लोगों को दिया जाता है, जहां अंतिम परिणाम पहले से ही तय किए जाते हैं, लेकिन बीमारी को ठीक करने के उद्देश्य से कैंसर के लक्षणों को नियंत्रित करना नहीं बल्की जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना है। दर्द प्रबंधन के लिए और कैंसर के विकास के गती को धीमा करने के लिए, इस उपचार की आवश्यकता होती है।
  • हार्मोनल थेरेपी - यह थेरेपी कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को धीमा करने या रोकने के लिए हार्मोन को रोकने या शरीर से बाहर निकालने का काम करती है। प्रोस्टेट और स्तन कैंसर कैंसर कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देतीं हैं, लेकिन यह चिकित्सा कैंसर कोशिकाओं का  बढ़ने धीमा या उनके बढ़ने को रोक सकती है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए कुछ साइड इफेक्ट्स का कारक है, जिन्हें सहायक चिकित्सा द्वारा भी रोका और प्रबंधित किया जाता है।
  • विकिरण चिकित्सा - यह चिकित्सा कैंसर कोशिकाओं को मारने, ट्यूमर को कम करने और कैंसर के लक्षणों को कम करने के लिए लक्षित ऊर्जा जैसे एक्स-रे, फोटॉन, इलेक्ट्रॉन या प्रोटॉन का उपयोग करती है। यह कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। यह उपचार बेहतर नतीजों के लिए अकेले या कॉम्बिनेशन में हार्मोन थेरेपी, कीमोथेरेपी और / या इम्यूनोथेरेपी के साथ दिया जा सकता है। यह थेरेपी भी कुछ दुष्प्रभावों के साथ आती है जैसे त्वचा की प्रतिक्रिया, थकान और लिम्फेडेमा।
  •  इम्यूनोथेरेपी - हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली किसी भी रोगग्रस्त कोशिकाओं, संक्रमणों या दोषपूर्ण कोशिकाओं का मुकाबला करने और उन पर हमला करने के लिए  शरीर की सबसे अच्छी रक्षा प्रणाली है। यह थेरेपी कैंसर कोशिकाओं के खिलाफ लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को सशक्त बनाने पर केंद्रित है। यह थकान, मतली, दस्त और फ्लू जैसी कुछ साइड इफेक्ट्स भी देता है, जिन्हें सहायक देखभाल सेवाओं द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। यह थेरेपी जीवनशैली की गुणवत्ता में सुधार के लिए कैंसर के लक्षणों को कम करने में मदद करती है।
  •  कीमोथेरेपी - यह शरीर में  तेज़ी से  विभाजित हो रहे कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने या धीमा करने के लिए एंटीकैंसर दवाओं का उपयोग करता है। इस थेरेपी जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए उपयोग कीं जाती है और बीमारी को ठीक भी कर सकती है (यदि पहले या दूसरे चरण में निदान किया जाए)। कीमोथेरेपी के प्रकार और खुराक पर डॉक्टर की सिफारिश कैंसर के प्रकार, संक्रमित अंगों, उम्र और सामान्य स्वास्थ्य पर निर्भर करती है। इस थेरेपी से कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं जैसे थकान , शुष्क गला या गले में खराश, वजन कम होना, पेट खराब होना, उल्टी आना और बालों का झड़ना।